ads

सरकार को झटका, बजट अनुमान से 135 फीसदी तक पहुंचा राजकोषीय घाटा

नई दिल्ली। केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा चालू वित्तवर्ष 2020-21 के आरंभिक आठ महीने में बढ़कर 10.75 लाख करोड़ रुपए हो गया, जो वित्तवर्ष के बजटीय अनुमान का 135.1 फीसदी है। कोरोना के कहर के चलते आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होने के कारण केंद्र सरकार के राजस्व में गिरावट के चलते राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी हुई है।

सरकार की कमाई
केंद्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, नवंबर 2020 तक केंद्र सरकार की राजस्व प्राप्तियां 8,30,851 करोड़ रुपए थीं, जो वित्तवर्ष 2020-21 के बजटीय अनुमान की कुल प्राप्तियों का 37 फीसदी है। इसमें 6,88,430 करोड़ रुपए कर राजस्व, 1,24,280 करोड़ रुपए गैर-कर राजस्व और 18,141 करोड़ रुपए गैर-कर्ज पूंजीगत प्राप्तियां शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः- नए साल के पहले दिन आम लोगों को गैस सिलेंडर पर बड़ी राहत, जानिए कितने चुकाने होंगे दाम

सरकार का खर्च
भारत सरकार का कुल व्यय 19,06,358 करोड़ रुपए रहा, जो पूरे वित्तवर्ष के बजटीय अनुमान का 63 फीसदी है। इसमें 16,65,200 करोड़ रुपए राजस्व खाता व्यय और 2,41,158 करोड़ रुपए पूंजीगत खाता व्यय शामिल हैं। कुल राजस्व व्यय में 3,83,425 करोड़ रुपए ब्याज के भुगतान पर और 2,02,119 करोड़ रुपए प्रमुख अनुदानों पर है।

राजकोषीय घाटा बजट अनुमान का 135 फीसदी
इस प्रकार, नवंबर के आखिर में कुल राजकोषीय घाटा 10,75,507 करोड़ रुपए है, जो वित्तवर्ष के बजटीय अनुमान का 135.1 फीसदी है। जबकि पिछले वित्तवर्ष 2019-20 के दौरान नवंबर के आखिर में राजकोषीय घाटा बजटीय अनुमान का 114.8 फीसदी था। केंद्र सरकार ने इस साल बजट में राजकोषीय घाटा 7.96 लाख करोड़ रुपए रहने का अनुमान लगाया था, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.5 फीसदी आंका गया था।



Source सरकार को झटका, बजट अनुमान से 135 फीसदी तक पहुंचा राजकोषीय घाटा
https://ift.tt/3rLWQlJ

Post a Comment

0 Comments