ads

Career in Hindi: हिन्दी भाषा में भी हैं शानदार जॉब के रास्ते, जानें डिटेल्स

Career in Hindi: अगर आप सोचते हैं कि हिंदी जानने वालों के लिए कोई खास कॅरियर स्कोप नहीं है तो आप पूरी तरह से गलत है। दुनिया की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली हिंदी भाषा में भी कॅरियर के उतने ही अवसर हैं जितने किसी अन्य भाषा का अध्ययन करने पर मिल सकते हैं। आइए जानें इस विषय को लेकर किन क्षेत्रों में भविष्य बना सकते हैं।

खेती-बाड़ी में कॅरियर बना कर कमा सकते हैं लाखों-करोड़ों, जानिए कैसे

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में बनाएं कॅरियर, रोमांच के साथ पैसा भी खूब मिलेगा

नौकरी के मौके
शैक्षणिक स्तर पर हिन्दी को बतौर विषय लेकर पढ़ाई करने वालों के लिए जॉब के कई अवसर हैं लेकिन यदि हिन्दी के साथ दूसरी अन्य भाषा का भी ज्ञान हो तो उच्च स्तर की नौकरी मिल सकती है।

बिजनेस में मुनाफा कमाना है तो आजमाएं ये टिप्स, खर्चा भी बचेगा

राजभाषा अधिकारी
ज्यादातर स्टूडेंट्स पढ़ाई के साथ सरकारी नौकरी के लिए तैयारी करते हैं। ऐसे में कई सरकारी संस्थान और मंत्रालय ऐसे हैं जो भाषा को उच्चस्तरीय दर्जा देने के लिए राजभाषा अधिकारी के पद पर नियुक्ति देते हैं। इसके लिए अभ्यर्थी को हिन्दी भाषा में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन आदि के अलावा अन्य डिग्री प्राप्त होना अनिवार्य है।

कॉपी राइटर की बढ़ती मांग
हर संस्थान में मैनेजमेंट स्तर से लेकर पत्र-पत्रिकाओं तक में कई स्तर मौजूद हैं। कॉपी राइटर की अहम भूमिका विज्ञापन, रेडियो एवं टीवी के लिए स्क्रिप्ट, जिंगल, स्लोगन, पंचलाइन आदि को रचनात्मक रूप से तैयार करना शामिल होता है। इसके लिए अभ्यर्थी की सोच क्रिएटिव होनी चाहिए।

शिक्षण क्षेत्र
हिन्दी साहित्य से बीए, एमए एवं पीएचडी का अकादमिक क्षेत्र में भविष्य बनाने का विकल्प है। बीए के बाद बीएड कर स्कूल शिक्षक के तौर पर कॅरियर बना सकते हैं।

पब्लिकेशन हाउस
साहित्य के आधार पर रोजाना कोई न कोई पुस्तक प्रकाशित होकर लॉन्च होती है। इसमें हिन्दी भाषी किताबों की संख्या तुलनात्मक रूप से ज्यादा है। हिन्दी भाषा पर गहरी पकड़ रखने वालों को देशभर में कई प्रकाशन हाउस में नौकरी के मौके मिलते हैं। यहां इन्हें रचनाओं को चुनने के अलावा प्रूफ रीडिंग कर फाइनल ड्राफ्ट तैयार करना होता है।



Source Career in Hindi: हिन्दी भाषा में भी हैं शानदार जॉब के रास्ते, जानें डिटेल्स
https://ift.tt/3nw4ZaD

Post a Comment

0 Comments