ads

अमरीश पुरी का नाटक देखने थिएटर आती थीं इंदिरा गांधी

नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा जगत में कई अभिनेता ऐसे हैं। जिन्होंने विलेन का किरदार निभाकर खूब लोकप्रियता हासिल की। सालों बाद भी उनकी दमदार आवाज़ और डायलॉग्स का खौफ दर्शकों के बीच देखने को मिलता है। उन्हीं में से एक हैं। दिग्गज अभिनेता अमरीश पुरी, जिनका आज जन्मदिन है। अमरीश पुरी इंडस्ट्री का एक ऐसा नाम है। जिन्हें परिचय की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने इंडस्ट्री में अपने अलग-अलग किरदारों से अपनी अनोखी पहचान बनाई। चलिए उनकी बर्थ एनिवर्सरी पर जानें उनसे जुड़ी कुछ खास बातें।

अमरीश पुरी का जन्म

बॉलीवुड में मोगैंबो के नाम से छाए अमरीश पुरी का जन्म 22 जून 1932 में पंजाब के नवांशहर में हुआ था। फिल्मों में आने से पहले वो बीमा एजेंट का काम किया करते थे। उन्हें हमेशा से ही एक्टिंग का शौक था। यही वजह रही कि उन्होंने नौकरी छोड़ 39 साल की उम्र में बॉलीवुड डेब्यू किया। उन्होंने 'मंथन', 'भूमिका', 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे', 'करण-अर्जुन', 'नायक : द रियल हीरो' जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम कर अपनी पहचान बनाई।

यह भी पढ़ें- Birthday Special: डरावनी शक्ल कहकर Amrish Puri को नहीं दिया गया हीरो का रोल, विलेन बन सबकी की छुट्टी

बड़ी हस्तियां भी थी अमरीश पुरी की कला की फैन

आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि फिल्मों में आने से पहले अमरीश पुरी थिएटर यानी कि नाटक किया करते थे। बताया जाता है कि उन्हें थिएटर बहुत ही प्यार था। वह अक्सर अपना अधिकतर समय थिएटर में ही बिताया करते थे। यही नहीं जब भी अमरीश पुरी नाटक करते थे। उनके नाटक देखने कई बड़ी हस्तियां आया करती थीं। बताया जाता है कि स्व.इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी भी अमरीश पुरी के नाटक देखने आते थे।

यह भी पढ़ें- अरविंद त्रिवेदी ने खुद 33 साल बाद किया खुलासा, ये शख्स बनता 'रामायण' में रावण, अचानक ऐसी पलटी किस्मत

मराठी फिल्म से की करियर की शुरूआत

ये बात बेहद ही कम लोग जानते होंगे कि बॉलीवुड में करियर शुरू करने से पहले अमरीश साहब ने मराठी सिनेमा से अपना एक्टिंग करियर शुरू किया था। उन्होंने कई मराठी फिल्मों में काम किया। अमरीश पुरी के फिल्मी करियर की बात करें तो उन्होंने लगभग 250 फिल्मों में काम किया। उनकी आखिरी फिल्म किस्सा थी। जो कोई उनके गुज़र जाने के बाद रिलीज़ हुई। अमरीश पुरी का निधन 12 जनवरी 2005 में हुआ था। बेशक आज अमरीश पुरी दुनिया में नहीं है, लेकिन उनका शानदार काम आज भी दर्शकों को दिलों में बसता है।



Source अमरीश पुरी का नाटक देखने थिएटर आती थीं इंदिरा गांधी
https://ift.tt/3qgJJZb

Post a Comment

0 Comments