ads

आमिर खान- किरण राव के तलाक के बाद कंगना रनौत ने उठाया सवाल,कहा- ‘मुस्लिम से शादी करने के लिए ही क्यों बदलें अपना मजहब’

नई दिल्ली। बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत हमेशा अपने बेबाकी भरे बयान से चर्चा में बनी रहती हैं। वे अपने पक्ष ज्यादातर समाज और राजनीति से जुड़े मुद्दों पर ज्यादा रखती है लेकिन इस बार उनका रिएक्शन आमिर खान और किरण राव के तलाक को लेकर आया है। कंगना ने इस कपल के तलाक के जरिए मुस्लिम कम्यूनिटी पर निशाना साधने की कोशिश की है। जिस पर उन्होंने सवाल दागते हुए कहा है कि आखिर किसी मुस्लिम से शादी करने के लिए मुस्लिम ही होना क्यों जरूरी है।

Read More:- आमिर खान-किरण राव के तलाक के बाद बेटी Ira Khan ने शेयर किया पोस्ट, लिखी चौंका देने वाली बात

kagna.jpg

कंगना ने इंस्टा पर अपनी पोस्ट शेयर करते हुए लिखा है कि एक समय ऐसा भी था जब पंजाब में ज्यादातर अपने एक बच्चे को हिंदू तो दूसरे को सिक्ख बनाने का रिवाज था। लेकिन ऐसा चलन हिंदूओं और मुस्लिम के बीच या सिख और मुस्लिम में देखने को नही मिला है। आमिर खान सर के तलाक लेने के बाद भी मुझे इस बात का आश्चर्य लग रहा है कि मुस्लिम से विवाह रचाने के बाद आखिर बच्चे मुस्लिम ही क्यों बनते हैं। महिलाएं हिंदू क्यों नही बन पाती। बदलते समय के साथ इसे भी बदलने की जरूरत है, ये तरीका काफी पुराना होने के साथ पीछे लेजाने वाला है।'

Read More:- कपूर खानदान के एक और चिराग की बॉलीवुड में हुई एंट्री, हंसल मेहता की फिल्म में आएगा नजर

amir_1.jpg

धर्म बदलने की जरूरत क्यों?

कंगना रनौत ने यह सवाल भी उठाया है कि, 'यदि एक परिवार में हर जाति धर्म के लोग हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख, राधा स्वामी और नास्तिक एक साथ रह सकते हैं तो मुस्लिम क्यों नहीं? मुस्लिम से शादी के लिए हमे अपना धर्म छोड़ना क्यों जरूरी है?' कंगना रनौत का यह पोस्ट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

aamirkiran.jpg

आमिर का दूसरा तलाक

बता दें कि अभी हाल ही में आमिर खान ने किरण से ताक लेकर लग रहने कै फैसला किया है यह उनका दूसरा तलाक है। इससे पहले आमिर खान ने 1986 में रीना दत्ता से की थी, और साल 2002 में उनका तलाक हो गया था। रीना और आमिर के दो बच्चे- जुनैद और आइरा हैं। वहीं आमिर खान का दूसरा तलाक किरण राव से हुआ। आमिर और किरण के बेटे का नाम आजाद है।



Source आमिर खान- किरण राव के तलाक के बाद कंगना रनौत ने उठाया सवाल,कहा- ‘मुस्लिम से शादी करने के लिए ही क्यों बदलें अपना मजहब’
https://ift.tt/36hCVSa

Post a Comment

0 Comments